कन्नर क सेक्स करते हुए वडय

भहरी -धक्छाह जानता है, में उप्तक्ी आँखों से ताइ गई थी कि घदा
॥।
सटखट हैं ।
खरहूबान -हुज्वर, यह ऋषटना तो भूल ही गया था हि कैद से ,भागः
कर घानेदार के मकान पर गया और बसे भी कन्छ का दिया।
आज़ाद-कथा ६१५
बेगम -सब आदमियों में से निकल भागा ?
महरी-भादमी है कि जिन्‍नात ?
भव्यासी-हुजू!, हमें आज दर साछूम होता है । ऐपा न हो, हमारे
हाँ भी चोरी करे ।
चण्ड्बाज रुखसत होकर गए तो सुरैयावेगम सो गईं। महरियाँ नी
रैटीं, मगर श्रव्वासी की शआँखों में नींद न थी। सारे खौंफ के इतनी
हिम्मत भी न बाकी रही कि उठकर पानी तो पीती । प्याप्त से तादू से
काटे पड़े थे । सगर दवकी पड़ी थी। उसी चक्ते हवा के भेफों से एक
कागज़ उड़कर उसके चारपाई के क़रीय खडखड़ाया तो दम निकल गया !
सिपाही ने आवाज दी-'सोनेवाले जागते रहो।” और यह काँप उढी।
ढर था, कोई चिमट न जांबे । छाशें झ्रखिं-तले फिरती थीं । इतने में
बारह का गजर ठनाठत बज्ना । तब अबव्बासी से अपने दिल में कहा, अरे
अभी बारह ही बजे। हस समझे थे, सवेरा हो गया। एकाएक कोई विह्यग
के धुन में गाने छगा --
सिपहिया जागत रहियो,
इस नगरी के दस दरवाजे निकस गया कोई और ।
सिपहिया जागत रदियो ।
भव्बासी सुनते-खुनते घो गई।, मगर थोड़ी ही देर में ठनाके की आ्रावाज़
थाई तो जाय उठी । श्रादमी की आइट साछूम हुईं। ए्वाथ-पाँच कॉपने
ऊगे। इतने मे वेगमसाहब ने पुछारा-अद्वाली पावी पिछा।
भव्वासी ने पावी पिछाया और बोछी-हुजूर, अब कभी लाशें-बाशों का
जिक्र न कीजिएुया । मेरा तो शमव हाल था। सारी रात आँखें में ही
कद गई ।
बेगम--ऐसा भी डर फिस कास का, द्व को ओर रात को भेड़ ।
5 8 जवजादुब्फकथा
बेगमसाहब सोने को ही थीं कि एक आदम ने फिर गाना शुरु किया।
बेगम--भच्छी आवाज़ हे !
अ्व्यासी--पहले भी या रहा था ।
महरी -ए, यह वकील हैं।
कुछ देर तक तीनों बातें करते-करते सो गईं । सवेरे मर ह-अँधेरे महरी
उठी तो देखा कि बड़े कमरे का ताला हटा पढ़ा है । दो सन्द्ृक ह॒टेफूरे
एक तरफ रकक्‍्खे हुए हैं. झोर भ्रतवाव सब तितर-वित्तर । गुर मचाका
कहा- अरे ! छुट गईं, हाय लोगो लुट गई ! घर में कुदराम मच गया ।
दारोगासाहव दोड पड़े । भरे यह क्या ग़ज़ब हो गया। बेगम की भी
नींद खुलो । यह हालत देखी तो हाथ मलरूर कट्टा-लुट गईं! यह
शोर-गुल सुबकर पडोतिनें गुरु मचातो हुईं कोठे पर आईं घोर योलीं**
बहन, यह वमचख कैसी है ! क्‍या हुआ ? खैरियत तो हैं !
बेगम-बहन, में तो सर सिटी ।
पडोसिन--क्या चोरी हो गई / दो बजे तक तो में आप छोगों की
बातें खुनवी रही । यद्द चोरी फिय वक्त हुई ?
अव्याधप्ती--बहन, क्‍या कहूँ द्वाय !
पदोध्षिन--देखिए तो अच्छी तरद | क्या-क्या छे गया, बयाययां
छोड गया ?
बेगप्र--महन, किप्तके होश ठिकाने हैं ।
अव्यासी--सुझ जकूम-जली को पहले ही ख़दका हुआ था। कात
खड़े दो गए, मगर फिर कुछ सुनाई न दिया। मैंने कुछ गया ने किया।
दारोग़ा--हुज्नर, यह किसी शैतान का काम है। पा तो पा ही ढाईूँ।
महरी--मिस हाथ से सन्दृक तोड़े, वह कदकर गिर पड़ें। मिस पाँव
से धाया उसमें कौड़े पढ़े । सरेंसा बिछय विकूफकर ।
शआज़ाद-कथा ६१७
अ्रब्वासी-- अल्लाह करे, भववारे ही में खटिया सचमचाती निकले ।
महरो--मगर अव्यासी, तुम भी एक ही कऊशिभी हो | वही हुभा |
सुरेयावेगम ने असवाव की जाँच की तो आझ्ञाथे से ज्यादा गायब
पाया । रोकर गोली--लोयो, में कहीं की न रही । हाय मेरे अब्बा, दोड़ो।
तुम्हारी लाड़िली बेटी आज छुट गईं ! हाय मेरी श्रस्माजान | सुरेयावेगस
अब फ़क्ीरिन दो गई ।
पड़ोसिन--बहन, ज़रा दिल को ढारस दो। रोने से भौर हलकान
होगी ।
' बेगम--किमसत ही पछट गई । द्वाय !
पड़ोसिन--ऐ ! कोई हाथ पकड़ छो । सिर फोड़े डालती हैं । बह्चन,
बहन ! खुदा के वास्‍्ते सुनो तो ! देखो, सघ माऊ मिला जाता है । घन-
राध्ो नहीं ।
इतने में एक महरी ने गुछ मचाकर कहा - हुजू्‌र, थह जोड़ी कड़े की
पी है !
अब्यवाती--भागते भूत की रूयोटी ही सही |
लोगों ने सलाह दी कि थानेदार को बुछाया जोय, मगर सुरैयावेगम
तो थानेदार से डरी हुईं थीं, बाम सुनते ही काँप उठी भौर बोलीं--बहन,
माल चाहे यह भी जाता रहे 'सगर थानेचालों को मैं झपवी ड्योढ़ी न
नाँधने दगी। दारोग़ाजी ने आँख ऊपर उठाई तो 'देखा, छत कटी हुई है ।
समभक गए कि चोर छत काटकर, झ्राया था। एकाएक कई कांस्टेबिल
बाहर आञा पहुँचे। कब वारदात हुईं ? नव दफे तो हस पुकार गए।
भीतर-प्राहर से तो बराबर आवाज शआलाई। फिर यह चोरी कब हुई ?
दारोगाजी ने कहा--हमको हस़ टाँय ढाँय से कुछ चास्ता नहीं है जी ?
आए वहाँ से रोड जमाने ! ढके का, आदमी भोर हससे ज़वान मिलाता
६१८ आज़ाद-कथा
है। पड़े-पड़े स्लोते रहे और इस वक्त तहफीकात करने चले हैं ३ पता
हजार का माल गया: है । कुछ ख़बर सी है !
कांस्टेबिलों ने जब सुना कि साठ इज़ार की चोरी हुईं ठो द्ोश उः
गए। झापस में यों बातें करने ऊूगे--
१--साठ हजार ! पचास और दुइ साठ ? काहे !
२--पचास दुु्ट साठ नहीं, पचास और दस साठ !
३--भजी खुदा खुदा करो । साठ हजार। क्या निरे जवाहिरात ही
थे ? ऐसे कहाँ के सेठ है।
दारोगा--सममका जायया, देखो तो सह्दी ! तुम सत्रक्री साजिश है।
५--दारोगा ठरकीय तो अच्छी की । शायाश !
३- बेगम साहब्र के यद्याँ चोरी हुई तो बछा से। तुम्हारी वो
होडियाँ चढ़ गई । कुछ हमारा भी हस्स्ा है
इतने में थानेदारसाहव भा पहुँचे भर कहा, हम मोक़ा देखेंगे।
परदा कराया गया । थानेदारसाहब झन्दर गए तो बोले--भ्रए्पाह,
इतना बढ़ा सकान है ! तो क्‍यों न चोरी हो ?
दारोग़ालक्या ? मकान इतना बड़ा देखा भौर आदमी रहते नहीं
देखते !
थानेदार--रात को यहाँ कौन-झोन सोया था १ “
दारोग़ा-अब्बासी, सबके नाम लिखवा दो ।

  • सेक्स करते हुए दख
  • brazzese.com
  • मधुर दक्षत सेक्स करते हुए
  • पत्नी साझा अश्लील फिल्म
  • सेक्स करते हुए वडय एचड में
  • मट औरत सेक्स करते हुए
  • वडय सेक्स करने
  • फुल सेक्स करते हुए वडय
  • मेरे पड़ोसी द्वारा बहकाया
  • फुल सेक्स करते हुए वडय
  • एच. डी. फोन अश्लील
  • सेक्स फल्म नंग करते
  • वडय सेक्स करने
  • करने वल सेक्स भेजए
  • करने वल सेक्स भेजए
    सेक्स पक्चर सेंड करें
    डग सेक्स करते हुए
    ट्रेन में कूप क्या है
    ख्याति प्राप्त व्यक्ति सेक्स दृश्य वीडियो
    सेक्स करने से फयद
    सेक्स पक्चर सेंड करें
    छोटे लिंग की स्थिति
    सेक्स करने से फयद
  • सेक्स करते समय दखओ
  • सेक्स वडय बतओ करते हुए
  • सेक्स करते हुए वडय एचड में
  • एक्स गॉन इसे फिर से दे दो
  • सेक्स करते समय दखओ
  • brazzese.com
  • brazzese.com
    मेरे पड़ोसी द्वारा बहकाया
    सेक्स करते हुए वडय एचड में
    सेक्स करते हुए दख
    सार्वजनिक रूप से नग्न
    सेक्स करते वडय दखइए
    सेक्स फल्म डउनलड करने वल
    सेक्स एंड द सिटी मूवी सेक्स सीन
    मट औरत सेक्स करते हुए